POPULAR HINDI BLOGS SIGNUP LOGIN

Blog: Cut to Cut

Blogger: Pritesh
  देश भक्ति , यह वो हार्मोन है जो हम भारतियों की रगो में आम तौर पर स्वतंत्रता दिवस, गणतंत्र दिवस  या भारत पाकिस्तान के मैच वाले दिन खून बन कर दौड़ता है। परन्तु पिछले कुछ दिनों से हम लोगो में ये पुरे ऊफान पर है।  भावनाओ का ज्वर मचल रहा है , कुछ कर गुजरने के लिए बेताबी बढ़ ... Read more
clicks 427 View   Vote 0 Like   12:14pm 7 Mar 2019
Blogger: Pritesh
"शादी के बाद तुम बदल गए"ये बात तो सुन ही चुके होंगे आप अगर आपकी शादी को अच्छा खासा समय(१-२ साल) हो गया है तो। अब बात करते है शादी के बाद के भी बाद के बदलाव की। बच्चा, जी हाँ बच्चा होने के बाद ज़िन्दगी फिर एक अँधा मोड़ लेती है और आपकी दिशा और दशा पर कुछ प्रभाव डालती है।  फेस... Read more
clicks 300 View   Vote 0 Like   6:19am 23 May 2018
Blogger: Pritesh
सुखी और सफल वैवाहिक जीवन के आधुनिक नुस्ख़े अरे आप हंस क्यों रहे हो ? चुटकुला नहीं है। ऐसा होता है। वैसे सफल वैवाहिक जीवन होना अलग बात है, सुखी वैवाहिक जीवन होना दूसरी बात है और एक सुखी प्लस सफल का कॉम्बो वैवाहिक जीवन सबसे बड़ी बात है जो शायद आपको फिक्शनल सी लगे। लेकिन यकी... Read more
clicks 249 View   Vote 0 Like   3:36pm 2 Jun 2017
Blogger: Pritesh
अभी जोर शोर से जो नाम सुनाई दे रहे है वो है एक तो राम और दूसरा रोमियो। एक ही राशि के दो नामो के प्रति अलग अलग भावनाएं है और हमारे देश में आप किसी की भी जान से खिलवाड़ कर सकते हो परंतु ख़बरदार जो किसी की भावनाओ से खिलवाड़ किया तो।चलिए ज्यादा सेंटी नहीं होते है और मुद्दे पर आते ह... Read more
clicks 248 View   Vote 0 Like   12:19pm 2 Apr 2017
Blogger: Pritesh
 किस्सा अधूरे ख्वाबो की सच्ची कहानी थी , कह गया। तेरी तमाम यादों का किस्सा क़तरा - क़तरा बन आँखों से बह  गया। टुटा, बिखरा , चूर हुआ , दिल ही तो था, मेरा था मेरे पास ही रह गया। ... Read more
clicks 253 View   Vote 0 Like   11:18am 2 Apr 2017
Blogger: Pritesh
डिस्क्लेमर: यह लघुकथा पूर्णतः मेरी कल्पनाओ के परिंदों की उड़ान का परिणाम है।इसका किसी जीवित इंसान, पशु, पक्षी, भूत, प्रेत आदि से कोई सरोकार नही है। एक और बात, यह कथा किसी घटना, किताब, फ़िल्म या किसी और की रचना से प्रेरित भी नही है, अगर ऐसा हुआ तो यह मात्र एक संयोग होगा।†*****************... Read more
clicks 250 View   Vote 0 Like   10:55am 2 Apr 2017
Blogger: Pritesh
भारत में लोग-बाग अपने फेवरेट सितारों से मिलने बम्बई जाते है, एक झलक पाने को घंटो हजारो की भीड़ में खड़े रहते है। कुछ बावले लोग तो चुपके से सितारों के घरो में घुस तक जाते है और आराम से घूम-घाम के सकुशल लौट भी आते है। अभी हाल ही में एक भाईसाब ने पुरे ९ घंटे अमिताभ बच्चन के घर मे... Read more
clicks 249 View   Vote 0 Like   11:45am 4 Aug 2016
Blogger: Pritesh
बारिश की पहली बौछार, बिजली की चमकार, मिट्टी की सौंधी महक और पहला -पहला प्यार। अरे अरे आप तो रोमांटिक होने लगे , रुकिए तो सही। श्रृंगार रस  से भरी ये बातें अब जवानी में अच्छी लगती है किन्तु बचपन में तो इन सबके मायने अलग ही हुआ करते थे।वैसे तो इस पहली बारिश के मायने धरती पर ... Read more
clicks 289 View   Vote 0 Like   10:37am 14 Jun 2016
Blogger: Pritesh
बाबा साहेब आंबेडकर की १२५ वीं  जयंती मनाई जा रही है और बड़े धूमधाम से ही मनाई जा रही है। पिछले कुछ दिनों से चंदा उगाही का कारोबार भी चल रहा है। हमारे देश में कोई भी महोत्सव चाहे वो धार्मिक हो, राजनैतिक हो या सामाजिक हो उसकी तैयारी बड़े जोरो शोरो से होती है। "जोर"लगा लगा के ... Read more
clicks 398 View   Vote 0 Like   10:35am 14 Apr 2016
Blogger: Pritesh
अँधेरी कोठरी में ढूँढता  हूँ एक दीपक उजाले के लिए जैसे भटका हुआ परिंदा ढूंढे कोई दरख़्त सुस्ताने के लिए चेहरो की इस भीड़ में तलाशता हूँ एक चेहरा जिसे कह सकु मैं अपना जैसे हर सुबह उठके याद करे कोई एक भुला हुआ सा सपना असंख्य दर्पणों में खोजता हूँ खुद की एक तस्वीर धु... Read more
clicks 284 View   Vote 0 Like   5:04am 12 Apr 2016
Blogger: Pritesh
   हमारा देश आजकल एक अलग ही "संघर्ष"से जूझ रहा है। JNU के मसले को कोई हर दिन एक नया मोड़ दिया जाता है। इस सिलसिले में "सच" DSLR कैमरा की रॉ फाइल की तरह है जो सिर्फ फोटोग्राफर के पास है और हमारे सामने सिर्फ "Processed"फोटो ही आ रही है।  जिसको जैसी फोटो अच्छी लगे उसके लिए उसी प्रकार से "Proc... Read more
clicks 332 View   Vote 0 Like   5:35am 3 Mar 2016
Blogger: Pritesh
जब से सत्ता संभाली है तभी से हमारे प्रधानमंत्री जी ने दुनियाभर में ढिंढोरा पिट रखा है कि भारत दुनिया का सबसे युवा देश है। भारत का युवा दुनिया बदलने की ताकत रखता है। सारी दुनिया हमारे देश की ओर आशाभरी दृष्टि से देख रही है। और भी न जाने कितनी बातें कही है हमारे प्रधानमं... Read more
clicks 266 View   Vote 0 Like   7:05am 27 Feb 2016
Blogger: Pritesh
आगे पढ़ने से पहले एक बात आप समझ लें की यह लेख पूर्णतः पुरुषो के और विशेषतः भावनात्मक रूप से बंदी (शादीशुदा) पुरुषो के दृष्टिकोण से लिखा गया है।तो जनाब तन की शक्ति, मन की शक्ति से कहीं बढ़कर है व्रत की शक्ति।जी हाँ सही पढ़ा आपने। व्रत की शक्ति को नज़रअंदाज करना आपके लिए हानिका... Read more
clicks 258 View   Vote 0 Like   9:41am 2 Feb 2016
Blogger: Pritesh
एक होते है बाबूजी, जो हर फिलम, टीवी और लगभग हर इंसान के असली जीवन में होते है। जो कभी नरम  तो कभी सख्त, कभी अच्छे तो कभी खडूस, कभी "कूल"तो कभी संस्कारी होते है। ऐसे सभी बाबूजी को प्रणाम करके बात करते है बड़े बाबू की। जी हाँ, बड़े बाबू वही जो ज्यादातर सरकारी दफ्तरों में सुना... Read more
clicks 553 View   Vote 0 Like   11:27am 28 Jan 2016
Blogger: Pritesh
दुनिया भर के युवाओं के लिए चार छः आठ धामो में से एक धाम है गोआ। मतलब युवावस्था में एक बार गोआ घूमने जाना जिंदगी की चंद जरूरी चीजो में शामिल है और अगर यह यात्रा शादी से पहले हो जाये तो जीवन सुधर जाये।हमारे इन यात्रियों की शादी से पहले और शादी के बाद वाले गोआ प्रवासो में क... Read more
clicks 478 View   Vote 0 Like   7:37pm 26 Dec 2015
Blogger: Pritesh
दृश्य एक :स्थान: पुणेसमय-काल  : गणेशोत्सव के आस पासकहते है की गणेशोत्सव की धूम धाम इस शहर से बढ़कर कहीं  देखने को नहीं मिलती , सच भी है। इस वर्ष भी गणेशोत्सव की तैयारियाँ जोरो शोरो से चल रही है। जोर इस लिए क्योंकि बड़े बड़े ढोल ताशे घंटो उठा के प्रैक्टिस करने में बड़ा जोर लगत... Read more
clicks 255 View   Vote 0 Like   2:24pm 1 Dec 2015
Blogger: Pritesh
मैनेजरयह वह प्रजाति है जो हर दफ़्तर, हर संस्था, हर दूकान और यहाँ तक की गली नुक्कड़ों पर हो रही चर्चाओं में भी पायी जाती है। दफ़्तर सरकारी हो या प्राइवेट आपको भिन्न भिन्न प्रकार के मैनेजर हर जगह देखने सुनने को मिलेंगे।अगर आपको इस प्रजाति के विशेष गुणों की चर्चा सुननी हो तो ... Read more
clicks 234 View   Vote 0 Like   5:25pm 28 Nov 2015
Blogger: Pritesh
कितनी तेज़ है आंधी, न जाने कब यह बूढ़ा पेड़ गिर जायेमुझे तो धुप में खड़े रहने दो, छाँव से डर लगताहै।सुना है फिर एक अन्नदाता मर गया भूख से मेरे गांव मेंमुझे तो शहर की कोलाहल में ही रहने दो, गांव से डर लगता है।   नदियां की बेचैन लहरे, हिचकोले खाती नावतैर के पार कर लूंगा , नाव से डर ... Read more
clicks 270 View   Vote 0 Like   2:52pm 5 Oct 2015
Blogger: Pritesh
आज की तारीख में अगर कोई कहे "बेचारा"तो अनायास ही मुँह से निकल जाता है "पुरुष", जी हाँ बेचारा पुरुष।अगर ध्यान से देखे तो बीते कुछ सालो में किसी ने पुरुषो के उत्थान के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाये है। किसी ने अगर कदम उठाये है तो केवल इनको कुचलने के लिए, इनकी आज़ादी के पतन के लिए, औ... Read more
clicks 280 View   Vote 0 Like   7:30am 21 Sep 2015
Blogger: Pritesh
इस वक़्त जबकि आप यह लेख पढ़ रहे है दुनिया के किसी हिस्से में कोई ड्रोन किसी देश के सिपाहियों की जासूसी कर रहा होगा। या  किसी सुन्दर से द्वीप पर सूर्यास्त का चित्र ले रहा होगा या फिर किसी की टेबल पर कोई ड्रोन बियर की बोतल सर्व कर रहा होगा। यह भी हो सकता है की कोई ड्रोन किसी ... Read more
clicks 404 View   Vote 0 Like   1:22pm 11 Aug 2015
Blogger: Pritesh
लैला-मजनूँ , सोहणी-महिवाल, जोधा-अकबर, रोमियो-जूलिएट, राधा-कृष्ण और ऐसी ही बहुत सारी युगल जोड़ियों के नाम सुन सुन के बड़े हुए है हम। हमारे समाज में फिक्शनल लव-स्टोरीज को जितनी मान्यता प्राप्त है उतनी मान्यता रियल लव स्टोरीज को हरगिज़ नहीं मिली। फिर भी कुछ अभागे कोशिश करते है... Read more
clicks 416 View   Vote 0 Like   7:00pm 1 Aug 2015
Blogger: Pritesh
डिस्क्लेमर/घोषणा/सावधान:यह पोस्ट थोड़ी गंभीर हो सकती है, हो सकता है की इसमें हास्य का तड़का फीका रहे, यह भी हो सकता है की अंत तक थोड़ी भारी भारी सी लगने लगे; किन्तु विश्वास कीजिये इसे पूरा पढ़ने के बाद आप निस्संदेह प्रसन्नचित्त होंगे।जैसा की शीर्षक से समझ आता है की यह लेख किस... Read more
clicks 244 View   Vote 0 Like   4:07pm 26 Jul 2015
Blogger: Pritesh
भारत में ऑनलाइन शॉपिंग का ट्रेंड बड़े जोरो शोरो से चल रहा है। सर की टोपी से लेकर पैरो की जुराबों तक, छोटे से फ़ोन से लेकर बड़े से मकान तक सब कुछ ऑनलाइन बिक रहा है। हमारी युवा पीढ़ी तो सबकुछ ऑनलाइन ही कर रही है।वैसे तो मैं भी इसी पीढ़ी का हिस्सा हूँ परन्तु मेरी पढ़ाई लिखाई इस ऑनला... Read more
clicks 454 View   Vote 0 Like   12:12pm 14 Jul 2015
Blogger: Pritesh
 पिता  हमारी पहचान के जनक है वो। हमारे अस्तित्व के घटक है वो। स्वयं के कंठ को सुखा रखके,हमारी हर तृष्णा को शांत कियास्वयं भूख की ज्वाला में धधक कर ,हमें भूख की परिभाषा से भी वंचित किया। हमारी असीमित इच्छाओ की पूर्ति के लिए ,स्वयं की हर इच्छा को रौंदा है जिन्होंने ... Read more
clicks 596 View   Vote 0 Like   10:18am 21 Jun 2015
Blogger: Pritesh
Though I am not a pro, however now a days who has a phone camera is a photographer :)After Piclog-1, Piclog-2 and Piclog-3, here I am with Piclog-4I know each and everything around us inspire us to do something better in our life. If you observe closely around yourself, you will find that everything has a philosophical point of view.I am inspired very much from a train. Our life is smiler to a train where after each certain period it halts for a station. Some people leave it and some get on-boarded. It never mind for those who leave it, nor it rejects anybody who try to on-board it.A train-a life (Picture taken at Matheran-Toy train)A train may be like our life, but this runs on rail tracks.... Read more
clicks 285 View   Vote 0 Like   9:34am 21 Jun 2015
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  You can create your ID by clicking on "Sign Up" (written at the top right side of the page) & login into bloggiri. After login, you will be redirected to "My Profile" page, here you are required to click on "Submit Blog". Please fill your blog details & send us. Kindly note that our team wi...
  You will be glad to know that after thumping success of hamarivani.com, which is a unique rendezvous of Hindi bloggers and readers spread all over world, we are feeling jubilant to introduce Bloggiri.com. At Bloggiri, your blog will get a huge horiz...
More...
Total Blogs (910) Totl Posts (44919)